सॉफ्टवेयर क्या है Software की Full जानकारी हिन्दी में

software kiya full jankari hindi me
0/5 No votes
Developer
--
--

Report this app

Description

सॉफ्टवेयर का परिचय

दोस्तो, आज हम जानेंगे कि कंप्यूटर सॉफटवेयर क्या है, और हा अगर आप Computer में रुचि रखते है, तो अपको सॉफ्टवेयर के बारे में पता होना चाहिए.

सॉफ्टवेयर software kiya full jankari hindi me

अभी जो पोस्ट आप पढ रहे है, वह भी एक सॉफ्टवेयर से पढ़ रहे है, जिसका नाम है Web Browser जो एक Application Software है. कंप्यूटर दो भागों से मिलकर बना है एक है हार्डवेयर और दूसरा सॉफ्टवेयर से बना है.

जैसे एक मानव शरीर में हाथ, पैर, आख, नाक, कान होते हैं वो हमारे शरीर के हार्डवेयर है, और जैसे सास, आत्मा, दया, प्यार, दर्द और मन हमारे शरीर के सॉफ्टेयर है, जिन्हें हम छू नहीं सकते हैं.

आइए अब हम पोस्ट स्टार्ट करते है कि सॉफ्टवेयर क्या है? और इसके क्या क्या प्रकार है और हा एक सॉफ्टवेयर कैसे बनता है ये सारी बातें हम जानेंगे.

सॉफ्टवेयर क्या है?

सॉफ्टवेयर software kiya hain

सॉफ्टवेयर, निर्देशों तथा प्रोग्राम्स का वह समूह है जो कम्प्युटर को किसी कार्य विशेष को पूरा करने का निर्देश देता हैं.

यह युजर को कम्प्युटर पर काम करने की क्षमता प्रदान करता हैं. सॉफ्टवेयर के बिना कम्प्युटर एक निर्जीव हैं.

Software को आप अपनी आंखों से नही देख सकते हैं. और ना ही इसे हाथ से छूआ जा सकता हैं.

क्योंकि इसका कोई भौतिक अस्तित्व नहीं होता हैं. यह एक आभासी वस्तु हैं जिसे केवल समझा जा सकता हैं.

यदि आपके कम्प्युटर में सॉफ्टवेयर नहीं होगा तो आपका कम्प्युटर मृत प्राणी के समान होगा.

जो केवल लौह और अन्य धातुओं से बना एक बक्सा मात्र रह जाएगा.

सॉफ्टवेयर आपके कम्प्युटर कि जान है, उसे काम करने के योग्य बनाता हैं, और सॉफ्टवेयर की मदद से ही आप कम्प्युटर से अपना मनपसंद काम करवा पाते हैं.

सॉफ्टवेयर के प्रकार:

कंप्यूटर सॉफ्टवेयर तीन प्रकार के होते हैं तो आईये जानते हैं सॉफ्टवेयर के प्रकार के बारे में जानते हैं.

कंप्यूटर सॉफ्टवेयर तीन प्रकार के होते हैं।

सिस्टम सॉफ्टवेयर (system software)

एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर (Application software)

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर (Utility software)

 

सिस्टम सॉफ्टवेयर (system software)

system software, सॉफ्टवेयर

सिस्टम सॉफ्टवेयर (System Software) ऐसे सॉफ्टवेयर होते हैं जो आपके कंप्यूटर के हार्डवेयर को Manage और Control करते हैं और इन्हीं की वजह से एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर (Application Software) कंप्यूटर में चल पाते हैं या

आप उस पर काम कर पाते हैं सिस्टम सॉफ्टवेयर (System Software) का सबसे सरल उदाहरण के आपका ऑपरेटिंग सिस्टम यानी आपकी विंडोज जो भी आप इस्तेमाल कर रहे होगें,

संक्षेप में सिस्टम सॉफ्टवेयर प्रोग्रामों का एक समूह है, सिस्टम सॉफ्टवेयर (System Software) के और भी कई उदाहरण हैं –

Examples of System सॉफ्टवेयर :-

  • Microsoft Windows
  • Linux
  • Unix
  • Mac OSX
  • DOS
  • BIOS Software

एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर (Application software)

application software

एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर (Application software) ऐसे प्रोग्रामों को कहा जाता है, जो हमारे कंप्यूटर पर आधारित मुख्य कामों को करने के लिए लिखे जाते हैं ।

आवश्यकतानुसार भिन्न-भिन्न उपयोगों के लिए भिन्न-भिन्न सॉफ्टवेयर होते हैं Software को बडी बडी कंपनियों में यूजर की जरूरत को ध्यान में रखकर Software programmers द्वारा तैयार कराती हैं,

इसमें से कुछ free में उपलब्ध होते है तथा कुछ के लिये चार्ज देना पडता है।

जैसे आपको फोटो से सम्बन्धित कार्य करना हो तो उसके लिये फोटोशॉप या कोई वीडियो देखना हो तो उसके लिये मीडिया प्लेयर का यूज करते है।  एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर (Application software) के कई उदाहरण हैं

Examples of Application सॉफ्टवेयर  :-

  • Opera (Web Browser)
  • Microsoft Word (Word Processing)
  • Microsoft Excel (Spreadsheet )
  • MySQL (Database )
  • Microsoft PowerPoint (Presentation सॉफ्टवेयर )
  • iTunes (Music / Sound सॉफ्टवेयर )
  • VLC Media Player (Audio / Video )
  • World of Warcraft (Game )
  • Adobe Photoshop (Graphics सॉफ्टवेयर )

यूटीलिटी सॉफ्टवेयर (Utility Software)

 

utility software

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर (Utility software) का काम कंप्यूटर के ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) की सर्विस/ रिपेयर करने का काम होता है

साथ में यह ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) केे माधयम से यूटिलिटी सॉफ्टवेयर (Utility software) कुछ हार्डवेयर की सर्विस करने का काम भी करते हैं जिससे उनकी कार्यक्षमता और गति को बढाया जा सके,

इसमें से बहुत कुछ यूटिलिटी सॉफ्टवेयर (Utility software) ऑपरेंटिंग सिस्टम के साथ आते है और कुछ को अलग से लेना पडता है, जैसे एंटीवायरस,डिस्क डिफ्रेगमेंटर आदि है.

सॉफ्टवेयर कैसे बनाते है

अगर आप सॉफ्टवेयर बनाना सीखना चाहते है तो सबसे पहले से देंखे की आपको किस टाइप का सॉफ्टवेर बनाना है. किस डिवाइस के लिए सॉफ्टवेर बनना है या किस Opreting सिस्टम के लिए सॉफ्टवेर बनाना है

जैसे – Window के लिए ,  Android के लिए  ,  MAC के लिए तो सबसे पहले कोई एक प्लेटफॉर्म सेलेक्ट करे .

और उसके लिए किस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की जरूरत पड़ती है ये पता करे और फिर उस language को सीखिये .

सॉफ्टवेयर बनाने के लिए आपको लैंग्वेज आनी बहुत ही जरूर जैसे “C” C++ , Java और भी बहुत क्योंकि अगर आप अपना खुद का सॉफ्टवेर बनाना चाहते है तो

आपको Programming आनी चाहिए . और प्रोग्रामिंग वही कर सकता है जिसको प्रोग्राम बनाने आते हो और प्रोग्राम वो बन सकता है है जिसको Language आती हो ,

सबसे पहले आपको लैंग्वेज सीखनी पड़ेगी.

Software बनाने के लिए क्या करे

अब आप सोचोगे की प्रोग्रामिंग कैसे करे तो यदि आप सॉफ्टवेर बनाना चाहते है तो इसके लिए ज़रूरी हैं की आपको कोई न कोई प्रोग्रामिंग Languages आनी चाहिए जैसे की C, C++, VB.NET, ASP.NET, JAVA  आदि

जिस से आप  प्रोग्रामिंग कर सकते है और  प्रोग्रामिंग से आप सॉफ्टवेर बना सकते है तो देखिये कोन कोन सी प्रोग्रामिंग Languages होती है जिन से आप प्रोग्रामिंग कर सकते है.

प्रोग्रामिंग Languages

 

C, LANGUAGES

सबसे पहले आती है C, LANGUAGES यह एक प्रोग्रामिंग Languages है जिसे आप  Windows, UNIX, Linux ऑपरेटिंग सिस्टम को बनाने के लिये  इस्तेमाल कर सकते है और

इस  प्रोग्रामिंग Languages से आप बहुत सारे प्रोग्राम बना सकते है जो हाई स्पीड से चल सकते है और और इस  Languages के अंदर आपको बहुत सारी languages के फीचर मिलेंगे

जैसे लो लेवल प्रोग्रामिंग Languages और हाई लेवल प्रोग्रामिंग Languages के तो यदि आपको सॉफ्टवेर बनाने के लिए प्रोग्रामिंग करनी है तो इस  Languages को सीखना पड़ेगा |

C++

यदि आपको C, LANGUAGES आती है तो आपको  C++ Languages  सिखने में इतनी समस्या नही होगी क्योकि और यह C  Languages का ही एक थोडा विस्तृत रूप है 

C++ Languages  गेम्स ऑपरेटिंग सिस्टम को बनाने के लिये  इस्तेमाल  होती है  यह थोड़ी सी मुस्किल होती है  लेकिन आपको C  Languages  तो कोई मुस्किल होती है और प्रोग्रामिंग में बहुत ही जरूरी Languages  है

इसके सिवाए यदि आपको कोई और Languages कम आती है तो आपका काम चल सकता है  लेकिन आपको यह C++ Languages आनी चाहिए.

JAVA

JAVA भी एक प्रोग्रामिंग Languages है और इस में Application सॉफ्टवेर  बनाये जाते है और जिस से आप इसे आप कंप्यूटर और लैपटॉप के साथ फोन के अंदर इसे इस्तेमाल कर सकते है और JAVA  प्रोग्रामिंग Languages  का दो पार्ट होते है

किसी समान्य प्रोग्रामिंग के लिए Core Java का इस्तेमाल किया जाता है और किसी एडवांस प्रोग्रामिंग के लिए एडवांस Java का इस्तेमाल किया जाता है और

एडवांस Java के भी आगे अलग अलग पार्ट के हिसाब से अलग अलग इस्तेमाल किये जाते है और इस Languages की  बहुत Security होती है  और सॉफ्टवेर बनाने के लिए प्रोग्रामिंग के लिए इस Languages की  जरूरत होती  है.

VB.NET

VB.NET सॉफ्टवेर प्रोग्रामिंग की सबसे इम्पोर्टेन्ट Languages है  इस Languages  से कंप्यूटर विंडो के लिए सॉफ्टवेर बना सकते है और सॉफ्टवेर प्रोग्रामिंग बहुत जरूरी है इसके बिना आप सॉफ्टवेर प्रोग्रामिंग नही  कर सकते है

यह Languages  थोड़ी मुस्किल होती है लेकिन आपको सीखनी पड़ेगी 

यदि आपको सॉफ्टवेर  प्रोग्रामिंग करनी है तो यदि आपको VB.NET  Languages सीखनी है तो आपको  Visual Studio इनस्टॉल करना पड़ेगा जिस से आप इस Languages को सिख सकते है

और Software बनाने के लिए आपको और भी कुछ चीजे सीखनी पड़ेगी जैसे ; PHP, HTML, CSS, Java Script इनकी भी बहुत जरूरत पडती है Software बनाने के लिए |

और यदि आप इन्हें कही ट्रेनिंग सेंटर के अंदर नही सिख सकते तो  सिखाने के लिए हमारे पास बहुत ही बढ़िया प्लेटफार्म है जिस आप सब Youtube के नाम से जानते है .

जी हाँ यूट्यूब दुनिया की ऐसी वेबसाइट है जंहा आपको सिखाने के लिए बहुत कुछ मिल सकता है अगर आप चाहो तो , आपको सिर्फ यूट्यूब पर जाना है और सर्च करना जो आप सीखना चाहते है है .

जैसे कोई सॉफ्टवेर है “Visual Studio” को ही ले लेते है इसके लिए आप यूट्यूब में सर्च करे ” Visual studio Tutorial ” आपको इतने टुटोरिअल मिलेंगे कि आप सारे देख भी नहीं पाओगे .

Programmer किसे कहते हैं ?

Programmer उन्हें कहा जाता है जो की Programs लिखते हैं. वहीँ उनके पास Programming skill होती है. जिन्हें की वो जरुरत के हिसाब से इस्तमाल करते हैं.

एक Software Company बहुत सारे Programmers को नौकरी पे रखती है. जो इनके लिए काम करते हैं. प्रोग्रामर को एक Software का छोटा सा हिसा मिलता है और उसके उपर वो करीबन 6 महीने या 1 साल तक काम करता है.

Company Software बनाने के लिए करोड़ों की Deal करती है. जिसमे से कुछ हिसा Programmers को salary के रूप में मिलती है.

Softwares को हम क्यूँ देख या छु नहीं सकते हैं ?

Softwares को हम अपनी आंखों से न तो देख सकते हैं और ना ही इसे अपने हाथों सेछु सकते हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि इसका कोई भौतिक अस्तित्व नहीं होता हैं. यह एक आभासी वस्तु हैं जिसे केवल समझा जा सकता हैं.

हम कभी भी सॉफ्टवेयर Application के बिना अपने Computer और Mobile को चला ही नहीं सकते हैं.

 

Software                            Examples

Antiviru  AVG, Housecall, McAfee, Norton

Audio / Music program   iTunes, WinAmp

Database    Access MySQL SQL

Device driversb।   Computer drivers

E-mail Outlook, Thunderbird

Game Madden, NFL Football, Quake, World of Warcraft

Internet browser   Firefox, Google Chrome, Internet Explorer

Movie player      VLC, Windows Media Player

Operating system  Android, iOS, Linux, macOS, Windows

Photo / Graphics program      Adobe PhotoShop, CorelDRAW

Presentation PowerPoint

Programming language   C++, HTML, Java, Perl, Visual Basic (VB)

Simulation   Flight simulator SimCity

Spreadsheet MS Excel

Utility Compression, Disk Cleanup, Encryption, Registry cleaner, Screensaver

Word processor    MS Word

Conclusion

software kiya hain, how to make software

मुझे उम्मीद है कि आपको ऊपर दी गई जानकारी बहुत अच्छे से समझ में आ गई होगी आज हमने इस पोस्ट में बताने की कोशिश की है, कंप्यूटर सॉफटवेयर क्या है , और इसके प्रकारों का पूरा विवरण बहुत अच्छे से बताया गया है, सॉफ्टवेयर कैसे बनाते है, Programmer किसे कहते हैं ? Softwares को हम क्यूँ देख या छु नहीं सकते हैं ?

अगर आपको कुछ समझ में नहीं आ रहा है तो आप हमारा पोस्ट दोबारा पढ़ सकते हो.  अगर आपकी कोई query है तो आप में कमेंट बॉक्स में बता सकते हो.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *